संस्कार…अपने-अपने – Short Moral Story in Hindi

बिटिया कुछ है क्या खाने को…. दोपहर तीन बजे के आसपास रामेश्वर बाबू ने बहु के कमरे में आवाज लगाते हुए कहाये भी कोई वक्त है खाने का और अभी ग्यारह बजे दिया था ना दूध वाला दलिया फिर अब…. तीन बजे है जो रोटी सब्जी बनाई थी खत्म हो गई है और आपको कोई … Read more