Latest Post

माँ बिना मायका… 🙏🏻 पूरा जरूर पढ़ें!

ट्रेन पटरी पर अनवरत भाग रही थी, और साथ ही भाग रही थी सुमन की सोच। खिड़की से बाहर देखते हुए याद आ रही थी माँ की। पिछले साल जब[…]

मायका Vs ससुराल!!

ससुराल में वो पहली सुबह आज भी याद है। कितना हड़बड़ा के उठी थी, ये सोचते हुए कि देर हो गयी है और सब ना जाने क्या सोचेंगे ? एक[…]

इन्सान जैसा कर्म करता है!!

इन्सान जैसा कर्म करता है कुदरत या परमात्मा उसे वैसा ही उसे लौटा देता है। एक बार द्रोपदी सुबह तडके स्नान करने यमुना घाट पर गयी। भोर का समय था[…]

दिल को छूँ लेनेवाली कहानी…

उस दिन सबेरे 6 बजे मैं अपने शहर से दूसरे शहर जाने के लिए निकला, मैं रेलवे स्टेशन पहुंचा, पर देरी से पहुचने कारण मेरी ट्रेन निकल चुकी थी, मेरे[…]

जीवन ऐसा हो जो!!

जीवन ऐसा हो जो:- संबंधों की कदर करे, और संबंध ऐसे हो जो:- याद करने को मजबूर कर दे..!! “दुनियां के रैन बसेरे में.. पता नही कितने दिन रहना है,[…]

एक बार संख्या 9 ने 8 को थप्पड़ मारा!!

एक बार संख्या 9 ने 8 को थप्पड़ मारा 8 रोने लगा… पूछा मुझे क्यों मारा..? 9 बोला… मैं बड़ा हु इसीलए मारा.. सुनते ही 8 ने 7 को मारा…[…]