Currently browsing:- Prernadayak Thoughts in Hindi:


ads


Anmol Vachan in Hindi

माँ बिना मायका… 🙏🏻 पूरा जरूर पढ़ें!

ट्रेन पटरी पर अनवरत भाग रही थी, और साथ ही भाग रही थी सुमन की सोच। खिड़की से बाहर देखते हुए याद आ रही थी माँ की। पिछले साल जब वो इसी तरह गर्मी की छुट्टियों मे मायके जा रही थी बच्चो के साथ तो क्या उत्साह और उमंग थी। कितनी तैयारी… साल की सबसे…

Anmol Vachan in Hindi

मायका Vs ससुराल!!

ससुराल में वो पहली सुबह आज भी याद है। कितना हड़बड़ा के उठी थी, ये सोचते हुए कि देर हो गयी है और सब ना जाने क्या सोचेंगे ? एक रात ही तो नए घर में काटी है और इतना बदलाव, जैसे आकाश में उड़ती चिड़िया को, किसी ने सोने के मोतियों का लालच देकर,…

Anmol Vachan in Hindi

इन्सान जैसा कर्म करता है!!

इन्सान जैसा कर्म करता है कुदरत या परमात्मा उसे वैसा ही उसे लौटा देता है। एक बार द्रोपदी सुबह तडके स्नान करने यमुना घाट पर गयी। भोर का समय था तभी उसका ध्यान सहज ही एक साधु की ओर गया जिसके शरीर पर मात्र एक लँगोटी थी। साधु स्नान के पश्चात अपनी दुसरी लँगोटी लेने…

Anmol Vachan in Hindi

Art of Living जीने की कला – प्रेरणादायक लेख!

एक शाम माँ ने दिनभर की लम्बी थकान एवं काम के बाद जब रात का खाना बनाया तो उन्होंने पापा के सामने एक प्लेट सब्जी और एक जली हुई रोटी परोसी। मुझे लग रहा था कि इस जली हुई रोटी पर कोई कुछ कहेगा। परन्तु पापा ने उस रोटी को आराम से खा लिया। मैंने…

Anmol Vachan in Hindi

संघर्ष और सफलता Must Read!

I request… U…Please Read It By Spending Your Valuable 2 Min…. संघर्ष और सफलता!! पिकासो (Picasso) स्पेन में जन्मे एक अति प्रसिद्ध चित्रकार थे। उनकी पेंटिंग्स दुनिया भर में करोड़ों और अरबों रुपयों में बिका करती थीं…!! एक दिन रास्ते से गुजरते समय एक महिला की नजर पिकासो पर पड़ी और संयोग से उस महिला…

Anmol Vachan in Hindi

आज की प्रेरणा ~ खुद का समर्थन करें!

आज की प्रेरणा….. आप सालों से अपने आप को कोसते आ रहें हैं पर कुछ हासिल नहीं हुआ। अब खुद का समर्थन करने की कोशिश कीजिये और फिर देखिये क्या होता है। आज से हम स्वयं का समर्थन करें!! ————————— कोयल अपनी भाषा बोलती है, इसलिये आज़ाद रहती हैं किंतु तोता दूसरे कि भाषा बोलता है, इसलिए पिंजरे में जीवन…

Anmol Vachan in Hindi

एक मेढक पहाड़ की चोटी पर चढ़ने का सोचता है!!

एक मेढक पहाड़ की चोटी पर चढ़ने का सोचता है और आगे बढ़ता है, बाकी के सारे मेंढक शोर मचाने लगते हैं!! “ये असंभव है.. आज तक कोई नहीं चढ़ा.. ये असंभव है.. नहीं चढ़ पाओगे” मगर मेंढक आख़िर पहाड़ की चोटी पर पहुँच ही जाता है.. जानते हैं क्यूँ? क्योंकि वो मेंढक “बहरा” होता…

Anmol Vachan Hindi Facebook Images

इच्छाशक्ति कल्पवृक्ष के समान है, जो आपको हर वो चीज दे सकती है जिसकी आप कल्पना करते हैं… Iccha Shakti Kalpvraksh Ke Saman Hai, Jo Aapko Har Wo Chiz De Sakti Hai Jiski Aap Kalpna Karte Hain… कभी भी खाने में कमी न निकालो दोस्‍तों एक स्‍त्री घंटों तपती है गर्मी में आपके एक वक्‍त…

Anmol Vachan in Hindi With Picture

Anmol Vachan in Hindi With Picture

जो हाथ सेवा के लिए उठते है, वे प्रार्थना करते होंठों से पवित्र है! Jo Hath Seva Ke Liye Uthtey Hai Ve Prarthna Karte Honthon Se Pavitra Hai सिर्फ संतोष ढूँढिये, आवश्यकताएं तो कभी समाप्त नही होंगी…”॥ गलत सोच और गलत अंदाजा इंसान को हर रिश्ते से गुमराह कर देता है शब्द यात्रा करते हैं……

link ads