Anmol Vachan in Hindi

एक ही घड़ी मुहूर्त में जन्म लेने पर भी सबके कर्म और भाग्य अलग अलग क्यों एक प्रेरक कथा … एक बार एक राजा ने विद्वान ज्योतिषियों की सभा बुलाकर प्रश्न किया- मेरी जन्म पत्रिका के अनुसार मेरा राजा बनने का योग था मैं राजा बना, किन्तु उसी घड़ी मुहूर्तContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

मुफ़्तख़ोरी की पराकाष्ठा! मुफ़्त दवा, मुफ़्त जाँच, लगभग मुफ़्त राशन, मुफ़्त शिक्षा, मुफ्त विवाह, मुफ्त जमीन के पट्टे, मुफ्त मकान बनाने के पैसे, बच्चा पैदा करने पर पैसे, बच्चा पैदा नहीं (नसबंदी) करने पर पैसे, स्कूल में खाना मुफ़्त, मुफ्त जैसी बिजली 200 रुपए महीना, मुफ्त तीर्थ यात्रा, मरने परContinue Reading

Ladkon Par Kavita Thoughts in Hindi

“हर उस बेटे को समर्पित जो घर से दूर है” बेटे भी घर छोड़ जाते हैं जो तकिये के बिना कहीं… भी सोने से कतराते थे… आकर कोई देखे तो वो… कहीं भी अब सो जाते हैं… खाने में सो नखरे वाले… अब कुछ भी खा लेते हैं… अपने रूमContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

दो शेरों की दोस्ती बिगड़ जाती है, दोनों ही एक दुसरे के दुश्मन हो जाते हैं, फिर दोनों एक दूसरे से 10 साल तक बात तक नही करते…… एक बार पहले शेर और उसकी बीवी-बच्चों को 25-30 कुत्ते नोचने लगते हैं……. तभी दूसरा शेर आता है, और उन कुत्तों कोContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

अक्सर तुम शाम को घर आ कर पूछते आज क्या क्या किया?? मैं अचकचा जाती सोचने पर भी जवाब न खोज पाती कि मैंने दिन भर क्या किया आखिर वक्त ख़्वाब की तरह कहाँ बीत गया.. और हार कर कहती ‘कुछ नही’ तुम रहस्यमयी ढंग से मुस्कुरा देते!! उस दिनContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

थोड़ा समय लगेगा लेकिन पढ़ना जरूर, आंसू आ जाए तो जान लेना आपकी भावनाएं जीवित हैं …. बात बहुत पुरानी है। आठ-दस साल पहले की। Shared by www.AnmolVachan.in मैं अपने एक मित्र का पासपोर्ट बनवाने के लिए दिल्ली के पासपोर्ट ऑफिस गया था। उन दिनों इंटरनेट पर फार्म भरने कीContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

निश्‍चित ही पाप से तो मुक्‍त होना है। मैंने कहा, पाप वह, जो बाहर ले जाये। मैंने कहां पूण्‍य जो भीतर ले जाये। लेकिन बाहर से तो मुक्‍त होना ही है, भीतर से भी मुक्त होना है। पहले बाहर से मुक्त हो लो, तब तत्क्षण तुम पाओगे कि जिसे हमनेContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

एक सेठ और सेठानी रोज सत्संग में जाते थे। सेठजी के एक घर एक पिंजरे में तोता पाला हुआ था। तोता एक दिन पूछता हैं कि सेठजी, आप रोज कहाँ जाते है। सेठजी बोले कि सत्संग में ज्ञान सुनने जाते है। तोता कहता है, सेठजी संत महात्मा से एक बातContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

This One is.. An Eye OPENER..! कल दिल्ली से गोवा की उड़ान में एक बुजुर्ग मिले। साथ में उनकी पत्नि भी थीं। बुजुर्ग की उम्र करीब 80 साल रही होगी। मैंने पूछा नहीं लेकिन उनकी पत्नी भी 75 पार ही रही होंगी। उम्र के सहज प्रभाव को छोड़ दें, तोContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

तन्हा बैठा था एक दिन मैं अपने मकान में, चिड़िया बना रही थी घोंसला रोशनदान में। पल भर में आती पल भर में जाती थी वो। छोटे छोटे तिनके चोंच में भर लाती थी वो। बना रही थी वो अपना घर एक न्यारा, कोई तिनका था, ईंट उसकी कोई गारा।Continue Reading