guru ki khusboo prerak prshang

” गुरु की खुशबु ” एक प्रेरक प्रसंग/ फुर्सत के क्षणों में- ::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: निजामुद्दीन औलिया एक महान मुस्लिम संत हुए हैं। एक बार एक गरीब आदमी,जिसकी बेटी विवाह योग्य थी, संत औलिया के पास इस उद्देश्य से आया कि कुछ सहायता मिल जायेगी क्योंकि संत बड़े दयालु होते हैं। संतContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

कल शाम को एक call आई, कोई लड़की थी बोली,” सर, मैं जॉब के लिए रजिस्ट्रेशन कर रही थी । गलती से आपका नम्बर डाल दिया है, क्योकि मेरे और आपके मोबाइल नंबर में काफी समानता है । आपके पास थोड़ी देर में एक ओटीपी (OTP) आएगी, प्लीज बता दोContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

ऐरे-गैरों के साथ भागकर आख़िर क्या मिलता है ? ऐसा करने से तो…. • अपना समाज कमजोर बनता है, • सौभाग्य से मिला हुआ धर्म नष्ट होता है, • मां-बाप और परिवार की आबरू जाती है, • उन्हें रुला कर कोई सुखी नहीं हो पाती है, • संस्कार और संस्कृतिContinue Reading

दयालु लकड़हारा!! (Short Moral Story in Hindi) बहुत समय पहले किशनपुर गाँव में रामू नाम का एक गरीब लकड़हारा रहता था। वह दूसराे की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता। जीवाें के प्रति उसके मन में बहुत दया थी। एक दिन वह जंगल से लकड़ी इकट्ठी करने के बाद थकContinue Reading

Everybody has their own story in hindi

नीचे एक सरल चित्र है, लेकिन बहुत ही गहरे अर्थ के साथ। आदमी को पता नहीं है कि नीचे सांप है और महिला को नहीं पता है कि आदमी भी किसी पत्थर से दबा हुआ है। महिला सोचती है: “मैं गिरने वाली हूँ! और मैं नहीं चढ़ सकती क्योंकि साँपContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

कल बाज़ार में फल खरीदने गया, तो देखा कि एक फल की रेहड़ी की छत से एक छोटा सा बोर्ड लटक रहा था, उस पर मोटे अक्षरों से लिखा हुआ था… “घर मे कोई नहीं है, मेरी बूढ़ी माँ बीमार है, मुझे थोड़ी थोड़ी देर में उन्हें खाना, दवा औरContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

एक बार एक राजा की सेवा से प्रसन्न होकर एक साधू नें उसे एक ताबीज दिया और कहा की राजन इसे अपने गले मे डाल लो और जिंदगी में कभी ऐसी परिस्थिति आये की जब तुम्हे लगे की बस अब तो सब ख़तम होने वाला है, परेशानी के भंवर मेContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

एक भंवरे की मित्रता … एक गोबरी कीड़े के साथ हो गई. कीड़े ने भंवरे से कहा ~ भाई ! तुम मेरे सबसे अच्छे मित्र हो, इसलिये मेरे यहाँ भोजन पर आओ. अगले दिन सुबह भंवरा तैयार होकर अपने बच्चों के साथ गोबरी कीड़े के यहाँ भोजन के लिये पहुँचा.Continue Reading

Anmol Vachan in Hindi

Nice Poem About Life 💙 समय चला, पर कैसे चला… 💙 पता ही नहीं चला… ज़िन्दगी की आपाधापी में, कब निकली उम्र हमारी,यारो पता ही नहीं चला। कंधे पर चढ़ने वाले बच्चे, कब कंधे तक आ गए, पता ही नहीं चला। किराये के घर से शुरू हुआ था सफर अपनाContinue Reading

Anmol Vachan in Hindi

एक ही घड़ी मुहूर्त में जन्म लेने पर भी सबके कर्म और भाग्य अलग अलग क्यों एक प्रेरक कथा … एक बार एक राजा ने विद्वान ज्योतिषियों की सभा बुलाकर प्रश्न किया- मेरी जन्म पत्रिका के अनुसार मेरा राजा बनने का योग था मैं राजा बना, किन्तु उसी घड़ी मुहूर्तContinue Reading