मायका Vs ससुराल!!

ससुराल में वो पहली सुबह आज भी याद है। कितना हड़बड़ा के उठी थी, ये सोचते हुए कि देर हो गयी है और सब ना जाने क्या सोचेंगे ?

एक रात ही तो नए घर में काटी है और इतना बदलाव, जैसे आकाश में उड़ती चिड़िया को, किसी ने सोने के मोतियों का लालच देकर, पिंजरे में बंद कर दिया हो!! शुरू के कुछ दिन तो यूँ ही गुजर गए। हम घूमने बाहर चले गए। जब वापस आए, तो सासू माँ की आंखों में खुशी तो थी, लेकिन बस अपने बेटे के लिए ही दिखी मुझे।

सोचा, शायद नया नया रिश्ता है, एक दूसरे को समझते देर लगेगी। लेकिन समय ने जल्दी ही एहसास करा दिया कि मैं यहाँ बहु हूँ। जैसे चाहूं वैसे नही रह सकती। कुछ कायदा, मर्यादा हैं, जिनका पालन मुझे करना होगा। धीरे धीरे बात करना, धीरे से हँसना, सबके खाने के बाद खाना, ये सब आदतें, जैसे अपने आप ही आ गयीं।

घर में माँ से भी कभी-कभी ही बात होती थी। धीरे-धीरे पीहर की याद सताने लगी।

ससुराल में पूछा, तो कहा गया- अभी नही, कुछ दिन बाद।

जिस पति ने कुछ दिन पहले ही मेरे माता पिता से, ये कहा था कि पास ही तो है, कभी भी आ जायेगी, उनके भी सुर बदले हुए थे। अब धीरे धीरे समझ आ रहा था, कि शादी कोई खेल नही। इसमें सिर्फ़ घर नही बदलता, बल्कि आपका पूरा जीवन ही बदल जाता है। आप कभी भी उठके, अपने पीहर नही जा सकते। यहाँ तक कि कभी याद आए, तो आपके पीहर वाले भी, बिन पूछे नही आ सकते।

पीहर का वो अल्हड़पन, वो बेबाक हँसना, वो जूठे मुँह रसोई में कुछ भी छू लेना, जब मन चाहे तब उठना, सोना, नहाना, सब बस अब यादें ही रह जाती हैं।

अब मुझे समझ आने लगा था, कि क्यों विदाई के समय, सब मुझे गले लगा कर रो रहे थे ? असल में मुझसे दूर होने का एहसास तो उन्हें हो ही रहा था, लेकिन एक और बात थी, जो उन्हें अन्दर ही अन्दर परेशान कर रही थी, कि जिस सच से उन्होंने मुझे इतने साल दूर रखा, अब वो मेरे सामने आ ही जाएगा।

पापा का ये झूठ कि में उनकी बेटी नही बेटा हूँ, अब और दिन नही छुप पायेगा। उनकी सबसे बड़ी चिंता ये थी, अब उनका ये बेटा, जिसे कभी बेटी होने का एहसास ही नही कराया था, जीवन के इतने बड़े सच को कैसे स्वीकार करेगा ?

माँ को चिंता थी कि उनकी बेटी ने कभी एक ग्लास पानी का नही उठाया, तो इतने बड़े परिवार की जिम्मेदारी कैसे उठाएगी ? सब इस विदाई और मेरे पराये होने का मर्म जानते थे, सिवाये मेरे। इसलिए सब ऐसे रो रहे थे, जैसे मैं डोली में नहीं, अर्थी में जा रही हूँ।

आज मुझे समझ आया, कि उनका रोना ग़लत नही था। हमारे समाज का नियम ही ये है, एक बार बेटी डोली में विदा हुयी, तो फिर वो बस मेहमान ही होती है, घर की। फिर कोई चाहे कितना ही क्यों ना कह ले, कि ये घर आज भी उसका है ? सच तो ये है, कि अब वो कभी भी, यूँ ही अपने उस घर, जिसे मायका कहते हैं, नही आ सकती…!!

🙏🙏
एक बहु एक बेटी….

ads


 
अनमोल वचन - जो सोच बदल दे!
सार्वजनिक समूह · 8,780 सदस्य
समूह में शामिल हों
अनमोल वचन ~ Words That Changed The LifeVisit for View Full Anmol Vachan Collection, Hindi Moral Stories, General Knowledge http://anmolvachan.in/
 

link ads

About Auther:

Words That Changed The Life Precious Words...

7 thoughts on “मायका Vs ससुराल!!

  1. Ha maiyka maiyka hota h sasural kbhi bhi maiyka nhi BN skta h kuch hi aisi family hogi jhaan sasural aur maiyka me diffrance nhi rakkhte ho.phle main bhi practical soch rakkhti thi pr ab nhi .Dowry system ek aisi burai h hmari society ki Jo kbhi bhi khatam nhi ho skti .Main bhi ek apni story Anmol vachan pr Dena chahti hu.

      1. Mayke me jo moj h wo sasural me kBh nh mil skti fir chahe kisi ki kitni bh sewa krlo kitna hi pyr kr sural wale hr bt pe tok hi dete h. Bhu bhu hi reh jati h fir chahe wo kitni bh beti bnne ki koshish krle ya kitna bh sas ko ma bnane ki koshish krle sas sas hi hoti h kBh ma nh bn skti

  2. Yes sasural kabhi ladki ka apna ghar nhi ban sakta or na sas kabhi ma .pta nhi har sash ye kiu bhul jati h ki unki bhi beti ya kisi ke ghar ki bahu banega.

  3. Nicely explained 👌🏻 This article touched my heart. Dedicate this to all married women who sacrificed their lives , self , dreams n more.. really nice and true☺️

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *