Category Archives: Hindi Stories With Moral

Hindi Stories With Moral for Kids, Gyan Ki Kahaniya in Hindi WIth Pictures, Hindi Morel Stories with Pictures for Facebook Share, Anmol Vachan Story for Kids, Best Hindi Morel Story With Pics

मार्मिक कहानी एक गलती की !!

By   10/11/2014
Heart Touching Story of A Blind Girl in Hindi

Heart Touching Story of A Blind Girl in Hindi

मार्मिक कहानी कहानी एक गलती की :-
एक बार कुछ विद्यार्थी रसायन विज्ञानं प्रयोगशाला में कुछ प्रयोग कर रहे थे. सभी विद्यार्थी अपने अपने प्रयोगों में व्यस्त थे कि अचानक एक लड़के की परखनली से तेज बुलबुला उठा और उसकी छिट्कियाँ सामने प्रयोग कर रही लड़की की आँखों में चला गया.

पूरी प्रयोगशाला में हाहाकार मच गया, सभी खूब परेशांन हुए, आनन फानन में उस लड़की को अस्पताल पहुँचाया गया, वहाँ डाक्टरों ने बताया कि वो अपनी आँखें खो चुकी है. ये सुन कर उस लड़की के घर वालों ने उस लड़के को कोसना शुरू कर दिया और स्कूल वालों ने उस लड़के को स्कूल से निकाल दिया.

अब वो अंधी लड़की अपनी नीरस ज़िन्दगी बिता रही थी, जो शायद किसी की लापरवाही की वजह से वीरान सी हो गयी थी, अब उस लड़की की ज़िन्दगी में कोई भी रंग कोई मायने नहीं रखता था. घर वाले भी वक़्त बेवक्त उस लड़के को कोसते रहते थे जिसने उनकी लड़की की ज़िन्दगी खराब कर दी थी. आज कल के ज़माने में तो किसी के सामने हूर परी भी बैठा दो तो भी लड़के वालों को उससे भी ज्यादा खूबसूरत चाहिए होती है. फिर उस बिचारी की वीरान ज़िन्दगी में रंग भरने की बात सोच पाना भी असंभव सा था. खैर वक़्त बीतता गया और उस लड़की को उस वीराने की आदत हो गयी. क्योंकि अब उसकी ज़िन्दगी में कही से भी उजाला आने की कोई गुंजाइश नहीं थी. Continue reading »

Search terms...:

  • moral stories in hindi
  • hindi story with moral
  • moral story in hindi
  • short stories in hindi
  • stories in hindi with moral

Related Anmol Vachan:

जीवन में किसी के दोस्त बनो तो शक्कर की तरह बनों!

By   10/11/2014
Friendship Moral Stories in Hindi दोस्ती की कहानियाँ

Friendship Moral Stories in Hindi

एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर रहता था, और वहीं पास एक मोरनी भी रहती थी।
एक दिन मोर ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि- “हम तुम विवाह कर लें, तो कैसा अच्छा रहे?”

मोरनी ने पूछा- “तुम्हारे मित्र कितने है? ” मोर ने कहा उसका कोई मित्र नहीं है। तो मोरनी ने विवाह से इनकार कर दिया।

मोर सोचने लगा सुखपूर्वक रहने के लिए मित्र बनाना भी आवश्यक है। उसने एक सिंह से.., एक कछुए से.., और सिंह के लिए शिकार का पता लगाने वाली टिटहरी से.., दोस्ती कर लीं।

जब उसने यह समाचार मोरनी को सुनाया, तो वह तुरंत विवाह के लिए तैयार हो गई। पेड़ पर घोंसला बनाया और उसमें अंडे दिए, और भी कितने ही पक्षी उस पेड़ पर रहते थे। Continue reading »

Related Anmol Vachan:

आक्रमणकारी सिंह और भैंसे !!

By   07/11/2014
Lion and Buffalo Motivational Moral Stories in Hindi

Lion and Buffalo Motivational Moral Stories in Hindi

              एक घना जंगल था। उसमें कई भैंसों के परिवार रहते थे। आक्रमणकारी सिंह एक ही था। वह जब चाहता हमला करता ओर किसी भी मोटे दुबले भैंस को चट कर जाता। झुण्ड के अन्य सदस्य घबराकर सिर पर पैर रखकर जिधर-तिधर भागते।

              एक दिन एक बूढ़े भैंस ने सजातियों के सभी परिवारों को एकत्रित किया और कहा मरना है तो बहादुरी से क्यों न मरें। रहना है तो मिलजुल कर क्यों न रहें। बात सभी की अच्छी लगी और वे उसके कहने से चलने को सहमत हो गए। दूसरे दिन तगड़े तगड़े भैंसों ने एक दल गठित किया और योजना बनी कि आक्रमण की प्रतीक्षा न करके शेर की माँद पर चला जाय और वहाँ उस पर हमला बोल दिया जाय। नई। योजना नई हिम्मत और नई आशा से तगड़े भैंसों के हौसले बहुत बढ़ गये थे। सो वे बहादुरी के साथ चले ओर माँद में सीधे शेर पर बिजली की तरह टूट पड़े। शेर को ऐसी मुसीबत का सामना इससे पहले कभी भी नहीं करना पड़ा था। वह घबड़ा गया और जान बचाकर इतनी तेजी से भाग कि यह देख तक न सका कि हमला करने वाले कौन है और कितने हैं? भयाक्रान्त शेर ने उस जंगल में भूतों का निवास माना ओर फिर कभी उधर न लोटने का निश्चय करके दूरस्थ बन में अपना डेरा डाला। भैंसों के परिवार निश्चिन्तता पूर्वक रहने ओर बन बिहार का आनन्द लेने लगे।

              आधुनिक समाज में हमारी हालत भी इन भैंसों की तरह ही है जिन्हे कोई भी शेर रुपी अपराधी दिन दहाड़े हमें प्रताड़ित करता है और हमारे मनोबल को तोड़ देता है और हमें बेबस कर देता है।

आईये हम सब भैंसों की तरह ही एक होकर इन तत्वों का मुकाबला करें और इन्हे समाज से उखाड़ फेंकें।

Seo: Lion and Buffalo Motivational Moral Stories in Hindi, Best Moral Story in Hindi for Kids and Students, Short Hindi Moral Stories, Inspirational Stories in Hindi for Students

Related Anmol Vachan:

सब्र का फल मीठा होता है ! साधू महाराज और गरीब युवक

By   03/11/2014
Sabra Patience Moral Story in Hindi for Kids

Sabra Patience Moral Story in Hindi for Kids

एक गरीब युवक, अपनी गरीबी से परेशान होकर, अपना जीवन समाप्त करने नदी पर गया, वहां एक साधू ने उसे ऐसा करने से रोक दिया। साधू ने, युवक की परेशानी को सुन कर कहा, कि मेरे पास एक विद्या है, जिससे ऐसा जादुई घड़ा बन जायेगा जो भी इस घड़े से मांगोगे, ये जादुई घड़ा पूरी कर देगा, पर जिस दिन ये घड़ा फूट गया, उसी समय, जो कुछ भी इस घड़े ने दिया है, वह सब गायब हो जायेगा। अगर तुम मेरी 2 साल तक सेवा करो, तो ये घड़ा, मैं तुम्हे दे सकता हूँ और, अगर 5 साल तक तुम मेरी सेवा करो, तो मैं, ये घड़ा बनाने की विद्या तुम्हे सिखा दूंगा।

बोलो तुम क्या चाहते हो?
युवक ने कहा, महाराज मैं तो 2 साल ही आप की सेवा करना चाहूँगा, मुझे तो जल्द से जल्द, बस ये घड़ा ही चाहिए, मैं इसे बहुत संभाल कर रखूँगा, कभी फूटने ही नहीं दूंगा।

इस तरह 2 साल सेवा करने के बाद, युवक ने वो जादुई घड़ा प्राप्त कर लिया, और अपने घर पहुँच गया। उसने घड़े से अपनी हर इच्छा पूरी करवानी शुरू कर दी, महल बनवाया, नौकर चाकर मांगे, सभी को अपनी शान शौकत दिखाने लगा, सभी को बुला-बुला कर दावतें देने लगा और बहुत ही विलासिता का जीवन जीने लगा, उसने शराब भी पीनी शुरू कर दी और एक दिन नशें में, घड़ा सर पर रख नाचने लगा और ठोकर लगने से घड़ा गिर गया और फूट गया. घड़ा फूटते ही सभी कुछ गायब हो गया, Continue reading »

Search terms...:

  • beimani ka fal khani
  • kids stories kahani hindi

Related Anmol Vachan:

परवरिश में खोट…!!

By   01/11/2014
Parvarish Main Khoot Hindi Moral Stories

Parvarish Main Khoot Hindi Moral Stories

यह कहानी एक ऐसे बच्चे की है जो बचपन में बहुत होनहार था! लेकिन जब वोह स्कूल में गलत बच्चो की संगत में पड़ जाता है!
और वोह स्कूल के बच्चो की कापी पेन्सिल जैसी छोटी – छोटी चोरिया शुरू कर देता है!

लेकिन उसकी माँ को यह बात पता चल जाती लेकिन वह उसे रोकने की वजाय उसे और प्रोत्सहन देती है ! और उसे अपने लड़के के इस काम से ख़ुशी होती है वह इसलिए की उसे पढाई करने का सामान खरीदना नहीं पड़ता था!

लेकिन जैसे – जैसे वह बड़ा होता गया ! और काम भी उसके बड़े होते गए, धीरे – धीरे वह बड़ी – बड़ी चोरिया, मर्डर जैसे काम करना शुरु कर दिया, उसने एक दिन ऐसा आया की बड़ी मशहुर हो गया और पुलिस की मोस्ट वांटेड लिस्ट में सुमार हो गया !

उसकी माँ उसके इस काम से बड़ी खुश रहती थी ! क्योकि उसकी माँ को सानो – सौकत की जिन्दगी जीने को मिल रही थी ! एक दिन ऐसा आया की  बड़ी जेल की सलाखों के पीछे पहुच गया और उसे जज के सामने पेस किया गया !

उसे जज ने एक कठोर सजा सुनाई, जो की फ़ासी थी,

उसे अब भूल का अहेसास हुआ! लेकिन अब क्या हो सकता था ! उसकी आखिरी इच्छा पूछी गई ! उसने आखिरी इच्छा में अपनी  माँ से मिलने की ख्वाहिस जाहिर की, उसकी माँ को बुलाया गया, उसकी माँ उसे जेल में देख बहुत दुखी हुई,

तो उसके लड़के ने जवाब दिया, अगर मुछे बचपन में, जब मै, पहली बार स्कूल में चोरी की थी, ! तब अगर मुछे उसी दिन एक तमाचा खीच कर मर दिया होता तो मै आज यहाँ नहीं हो ! और तुछे यह दिन देखना नहीं पड़ता,

उसकी माँ को बहुत पछतावा हुआ लेकिन…… यही कहावत हुई की

“अब पछताए होत का, जब चिड़िया चुग गई खेत!!”

नोट - हमारी गलतियो से हमें अवगत कराए  अगर आपको हमारे  लेख पसंद आ रहे हो तो हमें ज्वाइन करे  अपनी राय देना न भूले धन्यबाद  

Seo: परवरिश में खोट – ज्ञानवर्धक हिंदी कहानियाँ Parvarish Main Khoot Hindi Moral Stories, Best Moral Value Stories for for Parents Mother Father, Kids Care Moral Stories 

Search terms...:

  • hindi story

Related Anmol Vachan: