एक बेहतरीन मैसेज… जरूर पढ़ें।

एक बेहतरीन मैसेज… 😊

क्या हम बिल्डर्स, इंटीरियर डिजाइनर्स, केटरर्स और डेकोरेटर्स के लिए कमा रहे हैं ???

हम बड़े बड़े क़ीमती मकानों और बेहद खर्चीली शादियों से किसे इम्प्रेस करना चाहते हैं ???

क्या आपको याद है कि दो दिन पहले किसी की शादी पर आपने क्या खाया था ???

जीवन के प्रारंभिक वर्षों में क्यों हम पशुओं की तरह काम में जुते रहते हैं ?

कितनी पीढ़ियों के खान पान और लालन पालन की व्यवस्था करनी है हमें ???

हम में से अधिकाँश लोगों के दो बच्चे हैं। बहुतों का तो सिर्फ एक ही बच्चा है।

हमारी जरूरतें कितनी हैं और हम पाना कितना चाहते हैं ???

इस बारे में सोचिए।

क्या हमारी अगली पीढ़ी कमाने में सक्षम नहीं है, जो हम उनके लिए ज्यादा से ज्यादा सेविंग कर देना चाहते हैं !?!

क्या सप्ताह में एक दिन हम अपने, अपने परिवार और अपने प्रियजनों के लिए स्पेयर नहीं कर सकते ???

क्या आप अपनी मासिक आय का 5 % भी अपने आनंद के लिए, अपनी ख़ुशी के लिए खर्च करते हैं ???

सामान्यतः जवाब नहीं में ही होता है।

हम कमाने के साथ साथ आनंद भी क्यों नहीं प्राप्त कर सकते ???

इससे पहले कि आप स्लिप डिस्क्स का शिकार हो जाएँ अथवा कोलोस्ट्रोल आपके हार्ट को ब्लॉक कर दे,
आनंद प्राप्ति के लिए समय निकालिए !!!

हम किसी प्रॉपर्टी के मालिक नहीं होते, सिर्फ कुछ कागजातों, कुछ दस्तावेजों पर अस्थाई रूप से हमारा नाम लिखा होता है।

ईश्वर भी व्यंग्यात्मक रूप से हँसेगा जब कोई उसे कहेगा कि  
” मैं जमीन के इस टुकड़े का मालिक हूँ ” !!

किसी के बारे में, उसके शानदार कपड़े और बढ़िया कार देखकर, राय कायम मत कीजिए कि वह सुखी है ।

हमारे महान गणित और विज्ञान के शिक्षक स्कूटर पर ही आया जाया करते थे !!

धनवान होना गलत नहीं है… बल्कि धनवान होकर अपनों से विमुख हो जाना गलत है।

आइए जिंदगी को पकड़ें, इससे पहले कि जिंदगी हमारी पकड़ से दूर चली जाये…

एक दिन हम सब जुदा हो जाएँगे। तब अपनी बातें, अपने सपने हम बहुत मिस करेंगे।

दिन, महीने, साल गुजर जाएँगे, शायद कभी कोई संपर्क भी नहीं रहेगा।
एक रोज हमारी बहुत पुरानी तस्वीर देखकर हमारे बच्चे हम से पूछेंगे कि,
” तस्वीर में ये अन्य लोग कौन हैं ?? ”

*तब हम मुस्कुराकर अपने अदृश्य आँसुओं के साथ बड़े फख्र से कहेंगे—
” ये वो लोग हैं, जिनके साथ मैंने अपने जीवन के बेहतरीन दिन गुजारे हैं।

यदि यह आपको अच्छा लगा हो तो शेयर जरुर करें और आप व आपके परिचितों को Anmol Vachan की Hindi Motivational Stories and Articles पढ़ने के लिये प्रेरित करें। आपके पास भी अगर ऐसे ही प्रेरणादायक Prerak Prasang, Kahaniya, Quotes या Kavita Hindi में हैं तो हमारी ईमेल anmolvachan.in@gmail.com पर जरूर भेजें, हम उसे अपनी वेबसाईट www.anmolvachan.in पर पोस्‍ट करके अन्‍य को भी प्रेरणा दे सकते हैं।

अपनी प्रतिक्रिया दें...

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*